​​कोटाः टले दो बड़े रेल हादसे, निरीक्षण कर रहे इंजीनियर ने भागकर बचाई जान

राजस्थान के कोटा रेल मंडल से बड़ी खबर सामने आई हैं, इनके अनुसार दो रेल हादसे टल गए हैं। यहां अवध एक्सप्रेस ट्रेन ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी। वहीं मुम्बई-जयपुर सुपरफास्ट भी दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई।

हाई लाइट्स
पहली घटना रेल की पटरी टूटने से हुई
दूसरी घटना में अवध एक्सप्रेस ट्रेन ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी
रेलवे प्रशासन ने इंजीनियर को निलम्बित कर मामले की जांच के दिए आदेश
एनसीआई @ कोटा
राजस्थान के कोटा में शनिवार शाम दो रेल हादसे होने से पहले ही टल गए। पहली घटना रेल की पटरी टूटने की सामने आई। इस घटना में मुम्बई-जयपुर सुपरफास्ट दुर्घटनाग्रस्त होने बच गई। दूसरी घटना में अवध एक्सप्रेस ट्रेन ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी। इस घटना में एक इंजीनियर सहित चार ट्रेकमैन ट्रेन चपेट में आने से बाल-बाल बच गए।
इंजीनियर को किया निलम्बित
प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए रेलवे प्रशासन ने इस मामले में इंजीनियर को निलम्बित कर मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। मामले में खास बात यह है कि यह घटना ऐसे समय सामने आई है जब मुख्य संरक्षा अधिकारी (सीआरएस) कोटा में हैं और 180 की रफ्तार से ट्रेन का परीक्षण किया जा रहा है।
आ गई अचानक मुम्बई-गोरखपुर अवध एक्सप्रेस
दूसरी घटना सवाईमाधोपुर रंवाजनाडूंगर स्टेशन के पास हुई। रेल पटरियों के निरीक्षण के लिए वरिष्ठ खंड अभियंता मुरारीलाल बैरवा धक्के से चलने वाली ट्रॉली में बैठकर रवाना हुए थे। धक्का लगाने के लिए चार ट्रेकमैन भी ट्रॉली के साथ थे। आमली से रवाना होकर मुरानी लाल रंवाजनाडूंगर पहुंचे थे। यहां शाम करीब 4.45 बजे होम सिंग्नल पर ट्रॉली जाकर रुक गई। यहां पर मुरारीलाल ट्रॉली से उतने की कोशिश कर रहे थे, तभी ट्रेनमैनों की ओर से ट्रॉली को खोलने की तैयारी की जा रही थी। इतने में हॉर्न बजाती तेजी से आती मुम्बई-गोरखपुर अवध एक्सप्रेस को देखते ही मुरारीलाल और ट्रेकमैनों के होश उड़ गए। ट्रॉली की परवाह किए बिना मुरारीलाल और चारों ट्रेकमैन मौके से भाग खड़े हुए।
रोकने की कोशिश की बावजूद भी हुई जोरदार टक्कर
जानकारी के अनुसार ट्रॉली को पटरी से नहीं हटता देख चालक ने भी ट्रेन के ब्रेक लगाने शुरू कर दिए, लेकिन 105 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ रही अवध एक्सप्रेस ने रुकते-रुकते भी ट्रॉली को जोरदार टक्कर मार दी। इस टक्कर से ट्रॉली के परखच्चे उड़ गए।
सूचना के बाद मचा हड़कम्प
घटना की जानकारी कोटा रेल मंडल के अधिकारियों और कंट्रोल रूम को दी गई। यह सूचना मिलते ही रेल अधिकारियों में हडकम्प मच गया। सवाईमाधोपुर से सहायक मंडल अभियंता और इंद्रगढ़ से रेल पथ इंजीनियर आदि को मौके पर भेजा गया। इस घटना के बाद अवध एक्सप्रेस करीब आधा घंटा मौके पर खड़ी रही। इस घटना से इंजन और कोचों को कोई विशेष क्षति नहीं हुई। बाद में ट्रेन को मौके से आगे के लिए रवाना किया गया। गनीमत रही कि बड़ी दुर्घटना होने से टल गई। इधर, कोटा रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजय पाल ने कहा कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है। ट्रेन को भी कोई नुकसान नहीं हुआ है। मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.