राजस्थान कांग्रेस संकट: सचिन के सामने तो अशोक ही साबित हुए ‘पायलट'(वीडियो)

जयपुर। सीएम अशोक गहलोत के सरकारी निवास पर आयोजित शक्ति प्रदर्शन बैठक में विधायकों ने खड़े होकर जताया समर्थन।
(वीडियो देखने के लिए कृपया इसकेेे बीच के लाल निशान पर हलका सा क्लिक करें)
(वीडियो देखने के लिए कृपया इसके बीच में लाल निशान पर हलका सा क्लिक करें)
जयपुर। अंदर चल रहे सरकार के शक्ति प्रदर्शन के बीच सीएम अशोक गहलोत के सरकारी निवास के बाहर का नजारा।

-मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन
-शक्ति प्रदर्शन में 106 विधायकों के शामिल होने का दावा,109 विधायकों के समर्थन का दावा
एनसीआई @ जयपुर
सचिन पायलट के बगावती रुख के बाद राजस्थान में सीएम अशोक गहलोत की सरकार पर छाया सियासी संकट सोमवार को टल गया। गहलोत द्वारा बुलाई गई विधायक दल की बैठक में अच्छी खासी संख्या में विधायक शामिल हुए। सीएम हाउस से जारी वक्तव्य में इनकी संख्या 106 बताई गई है। 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में बहुमत के लिए 101 विधायकों की जरूरत होती है। वर्तमान समय में अशोक गहलोत के पास पूर्ण बहुमत दिख रहा है।
मुख्यमंत्री ​अशोक गहलोत के सरकारी निवास पर हुई विधायक दल की बैठक में सीएम, रणदीप सिंह सुरजेवाला, अजय माकन आदि कांग्रेस नेता विक्ट्री का निशान दिखाते नजर आए। इस दौरान सीएम गहलोत काफी आश्वस्त नजर आ रहे थे।
अब कांग्रेस में पायलट के भविष्य पर सवाल
सूत्रों के हवाले से ये खबर आई है कि राहुल गांधी ने सचिन पायलट को मनाने की कोशिश की थी। दो दिन पहले तक राहुल गांधी और सचिन पायलट के बीच सम्पर्क हो रहा था, हालांकि राहुल गांधी सफल नहीं हुए। इसके बाद अब प्रियंका गांधी ने इसकी कमान सम्भाली है और राजनीतिक संकट सुलझाने की कोशिश शुरू कर दी है।
इससे पहले कल रविवार को सचिन पायलट की तरफ से दावा किया गया था कि 30 विधायक उनके साथ हैं और अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है। खबरें यह भी थीं कि पायलट बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। कांग्रेस पार्टी की तरफ से व्हिप जारी होने के बावजूद पायलट और उनके समर्थक कुछ एमएलए, विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए, इसलिए पार्टी की तरफ से अनुशासनात्मक कार्रवाई किए जाने की भी काफी हद तक सम्भावना है।
पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे खुले हैं: सुरजेवाला
विधायक दल की बैठक से पहले कांग्रेस पार्टी की तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई। इसे सम्बोधित करते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, ”कांग्रेस नेतृत्व ने पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार वार्तालाव और चर्चा की है। व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है, लेकिन राजस्थान व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से बड़ा है।”
सुरजेवाला ने कहा, ”कभी-कभी वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो जाता है जो प्रजा​तांत्रित प्रणाली में स्वा​भाविक है, परन्तु वैचारिक मतभेद पैदा होने से चुनी हुई अपनी ही पार्टी की सरकार को कमजोर करना या बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित है।” उन्होंने कहा कि ”अगर कोई मतभेद है तो सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले थे, हैं और रहेंगे।”

जयपुर। शक्ति प्रदर्शन के बाद मीडिया कर्मियों से जाने के लिए खुद अशोक गहलोत को उठकर कहना पड़ा।
(वीडियो देखने के लिए कृपया इसके बीच के लाल निशान पर हलका सा क्लिक करें)

Leave a Reply

Your email address will not be published.