राजस्थान सियासी संकट: बीजेपी के यह तेवर बता रहे ‘पिक्चर अभी बाकी है’?

एनसीआई @ नई दिल्ली/जयपुर
बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने कहा कि अगर अशोक गहलोत के पास बहुमत है तो उन्हें तुरंत फ्लोर टेस्ट कराकर अपना बहुमत साबित करना चाहिए।
उल्लेखनीय है कि राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कुर्सी फिलहाल खिसकने से बच गई है। उन्होंने 100 से अधिक विधायकों का साथ होने का दावा मीडिया के सामने करके अपनी ताकत दिखाई है, हालांकि इस संख्या को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने गहलोत सरकार पर सवाल खड़े किए हैं।
बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने इस पर ट्वीट कर कहा कि, अगर अशोक गहलोत के पास बहुमत है तो उन्हें तुरंत फ्लोर टेस्ट कराकर अपना बहुमत साबित करना चाहिए। वे अपने विधायकों को रिजॉर्ट में ले जा रहे हैं, जिससे साफ होता है कि उनके पास संख्या नहीं है।’
मालवीय ने न्यूज एजेंसी एएनआई के एक ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए कांग्रेस पर यह निशाना साधा है। एएनआई ने अपने इस ट्वीट में विधायक दल की बैठक में 107 विधायकों के शामिल होने की बात कही है। वहीं, गहलोत खेमे ने दावा किया कि उनके साथ 109 विधायक हैं. यानी बहुमत के आवश्यक आंकड़े 101 से ज्यादा।

शक्ति प्रदर्शन के बाद विधायक दल की बैठक

मुख्यमंत्री आवास पर मीडिया के सामने हुए शक्ति प्रदर्शन के बाद कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई। इसमें प्रस्ताव पारित हुआ कि कांग्रेस का कोई भी पदाधिकारी, विधायक या मंत्री सरकार के खिलाफ षड्यंत्र में शामिल पाया जाता है तो उसके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। कांग्रेस विधायक दल ने अपना नेता सर्वसम्मति से अशोक गहलोत को माना है।

प्रियंका गांधी ने संभाला मोर्चा

राजस्थान की सत्ता जाने के खतरे के बीच मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के बीच चल रहे इस बड़े झगड़े को सुलझाने का जिम्मा आखिर प्रियंका गांधी ने संभाल लिया है। जानकारी के अनुसार प्रियंका गांधी अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों से बात कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.