जिस गाड़ी में ज्योतिरादित्य सिंधिया कर रहे प्रचार, उस पर कांग्रेस ने साधा निशाना

एनसीआई@भोपाल
सदमा देकर बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस हर तरह से घेरने की कोशिश में जुटी हुई है। वहीं, सिंधिया भी अपनी चुनावी सभाओं में कांग्रेस पर जम कर प्रहार कर रहे हैं। अब कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की गाड़ी को लेकर गम्भीर आरोप लगाए हैं। कांग्रेस का आरोप है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जिस गाड़ी से मुरैना में रोड शो कर रहे थे, वह पुलिस की गाड़ी है। हालांकि उस गाड़ी पर कहीं पुलिस नहीं लिखा हुआ है।


कांग्रेस यह दावा गाड़ी के नम्बरों के आधार पर कर रही है। क्योंकि एमपी में हर विभाग को अलग-अलग नम्बर की गाड़ियों का अलॉटमेंट होता है। कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने एक तस्वीर ट्वीट करते हुए पूछा है कि श्रीअंत ज्योतिरादित्य सिंधिया जी, आप प्रदेश के डीजीपी, एडीजी हैं, आईजी हैं या डीआईजी। डबरा में किस हैसियत से एमपी पुलिस के वाहन में जनसम्पर्क कर रहे हैं। कहा जाता है कि आपकी शिक्षा विदेशों में हुई है।
हालांकि कांग्रेस के इस वार पर बीजेपी ने चुप्पी साध ली है। नम्बरों के अलॉटमेंट के आधार पर देखें, तो ज्योतिरादित्य सिंधिया जिस गाड़ी पर सवार हैं, वह एमपी पुलिस की ही है। लेकिन गाड़ी किसकी है, ये पता नहीं चल पाया है। लेकिन कांग्रेस इस मुद्दे को लेकर सरकार पर हमलावर है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी इस रैली में कांग्रेस पर जम कर प्रहार किया था।
क्या है एमपी में नम्बर प्रणाली
एमपी में MP-01 और MP-02 नम्बर सरकार के लिए आरक्षित हैं। वहीं, MP-03 पुलिस के लिए आरक्षित है। बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया जिस गाड़ी पर सवार थे, उसका नम्बर MP-03A 6271 है। नम्बर सीरीज देखने से तो यही पता चल रहा है कि गाड़ी पुलिस की है। नियम के अनुसार पुलिस की गाड़ी का इस्तेमाल किसी भी राजनैतिक कार्यक्रम के लिए नहीं किया जा सकता है।
सिंधिया ने भी किया प्रहार
वहीं, मुरैना में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेसी वचन पत्र को धर्मग्रंथ कहते थे, प्रमुख नेता मुरैना में आकर किसान भाइयों से वादा किए कि सरकार बनने के 10 दिन के अंदर कर्जमाफ न हुआ तो मुख्यमंत्री बदल देंगे, मैंने 10 दिन नहीं, 10 महीने देखा कर्जमाफ न हुआ। प्रदेश की जनता के साथ कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने मिलकर गद्दारी की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.