लाइट ऑन करते ही खेल रहे तीनों भाई-बहनों की मौत

एनसीआई@जयपुर/पाली
पाली जिले के सिरियारी थाना इलाके के चौकड़िया-धवड़ी ढाणी में मंगलवार देर शाम को मवेशियों के बाड़े में लाइट ऑन करते ही शॉर्ट सर्किट से करंट फैल गया। बाड़े के चारों तरफ लोहे के जालीनुमा गेट व टीन शेड होने से वहां खेल रहे तीन मासूम भाई-बहन लाइट की चपेट में आकर चिपक गए, जिससे तीनों की मौत हो गई। घटना से पूरे गांव में कोहराम मच गया।
जानकारी के अनुसार, धवड़ी ढाणी में रहने वाले कुंदन सिंह रावत ने अपने मकान के समीप ही बकरियों व अन्य मवेशियों को रखने के लिए बाड़ा बना रखा है। वहां ट्रेक्टर खड़ा रखने के लिए लोहे के टीन शेड के नीचे पार्किंग भी बनी हुई है। वहां पर एक बल्ब के लिए बिजली का कनेक्शन कर रखा था। बिजली के तार सम्भवतया किसी चूहे या अन्य जानवर के काट देने से वह थोड़ा कट गया था।
शाम के समय कुंदन सिंह के तीनों बच्चे वर्षा (9), विकास (7) और वीरेंद्र (5) वहां खेल रहे थे। इस दौरान शाम करीब साढ़े छह बजे हलका अंधेरा होने पर बल्ब को ऑन करने का प्रयास किया। इससे पूरे बाड़े में करंट फैल गया‌‌। इससे तीनों मासूम करंट की चपेट में आकर चिपक गए। बच्चों के चाचा सहित अन्य लोगों को घटना की जानकारी हुई तो वे मौके पर पहुंचे तथा बिजली बंद करवाकर तीनों बच्चों को देवगढ़ अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया।
सिरियारी थाना प्रभारी सुरेश सारण ने बताया कि मृतकों के पिता कुंदन सिंह रावत के बेंगलुरु में होने पर उसे सूचना देकर बुलाया गया है। कुंदन सिंह काफी समय से बेंगलुरु में ही काम करते हैं। घर पर उनके दोनों बेटे और एक मात्र बेटी तथा पत्नी ही रहती थीं। घटना के वक्त बच्चों की मां भी घर पर ही थी। मारवाड़ जंक्शन विधायक खुशवीर सिंह जोजावर देवगढ़ पहुंचे और परिजनों को सांत्वना दी। साथ ही शवों का पोस्टमार्टम होने के बाद उनको वापस गांव अंतिम संस्कार के लिए भेजने के लिए वाहन की व्यवस्था कराई। इसके बाद वे गांव में घटनास्थल पर भी पहुंचे। उनके साथ रावत राजपूत समाज के नेता राजेंद्रसिंह फुलाद, बाबूसिंह व रणजीत मालवीय भी थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.