मेडिकल गर्ल्स हॉस्टल की पहली मंजिल तक जा पहुंचा युवक, बाथरूम में पकड़े जाने पर….

एनसीआई@जयपुर
एसएमएस अस्पताल के सामने स्थित एसएमएस मेडिकल गर्ल्स हॉस्टल की सुरक्षा व्यवस्था की असलियत बुधवार को उस समय खुलकर सामने आ गई जब एक युवक बिना रोक-टोक पहली मंजिल पर स्थित वॉश रूम तक जा पहुंचा। जैसे ही छात्राओं की उस पर निगाह पड़ी, हंगामा मच गया। इस पर सुरक्षा गार्ड पहुंचे, लेकिन वह युवक पहले ही भाग निकला। हॉस्टल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। बताया गया है कि उस युवक को पकड़ तो लिया गया था, मगर उसने पुलिस का आईडी कार्ड दिखाया, इसके बाद वह भाग गया।
एसएमएस पीजी गर्ल्स हॉस्टल में रहकर छात्राएं मेडिकल की पढ़ाई करती हैं। इसके गेट के मुख्य द्वार पर सुरक्षाकर्मी तैनात रहते हैं। इसके बावजूद एक युवक इन सब सुरक्षाकर्मियों का गच्चा देकर गर्ल्स हॉस्टल में केवल घुसा ही नहीं, अपितु वह इसकी पहली मंजिल तक पहुंच गया। वहां गर्ल्स स्टूडेंट्स के बाथरूम में घुस गया। जब वहां मौजूद दो मेडिकल छात्राओं ने युवक को बाथरूम में देखा तो घबरा गईं। उन्होंने शोर मचाया तो हॉस्टल में मौजूद अन्य छात्राएं भी आ गईं। उन्होंने भी हंगामा मचाया।
पकड़ा गया, पुलिस का आईडी कार्ड बताया, फिर भाग गया
शोर सुनकर सुरक्षाकर्मी वहां तक पहुंचे, मगर इससे पहले ही वह युवक वहां से मौका पाकर भाग निकला। वहीं मेडिकल स्टूडेंट्स ने बताया कि युवक को पकड़ लिया गया था। इसके बाद उसने खुद के राजस्थान पुलिस में होना बताते हुए आईडी कार्ड भी दिखाया। वह अपना नाम जितेन्द्र सैनी बता रहा था। मगर इसके बाद वह भाग गया। युवक के भागने की सूचना मिलने पर एसएमएस अस्पताल चौकी से पुलिसकर्मी वहां पहुंचा। यह मामला मेडिकल कॉलेज के प्रबंधन तक पहुंचा। तब इस सम्बन्ध में हॉस्टल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी खेमराज शर्मा ने मोती डूंगरी थाने में युवक के खिलाफ छेड़छाड़ और अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया गया। इसकी जांच एएसआई राजेन्द्र कुमार शर्मा को सौंपी गई है।
ना सीसीटीवी चालू था, ना गार्ड मौजूद था
पुलिस के मुताबिक घटना 18 अक्टूबर की शाम करीब साढ़े पांच बजे की है। उस समय हॉस्टल के मेन गेट पर सुरक्षाकर्मी नहीं था। मेन गेट पर बाहर की ओर देखते हुए दो सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं, वे भी खराब पड़े हुए हैं। जांच अधिकारी एएसआई राजेन्द्र कुमार ने बताया कि जितेन्द्र सैनी नाम के पुलिसकर्मी की जानकारी मांगने के लिए मोती डूंगरी थाना पुलिस ने पुलिस मुख्यालय को पत्र लिखा है। आसपास लगे अन्य सीसीटीवी केमरों के फुटेज चेक करवाए जा रहे हैं, जिससे आरोपी की पहचान हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.