April 14, 2021

News Chakra India

Never Compromise

देश में पहली बार किसी महिला को होगी फांसी, शबनम की क्रूरता की दास्तां सुन कांप जाएंगे आप

1 min read

-प्रेमी के साथ मिलकर घर के सात लोगों को उतार दिया था मौत के घाट
-सुप्रीम कोर्ट से मिली सजा के बाद राष्ट्रपति ने भी खारिज की दया याचिका

एनसीआई@ मेरठ/ अमरोहा

सु्प्रीम कोर्ट ने अपने परिवार के सात लोगों की हत्या की आरोपी महिला शबनम को फांसी की सजा सुनाई थी। शबनम की फांसी की सजा के बाद इसकी दया याचिका राष्ट्रपति के पास भी गई, मगर उसे राष्ट्रपति ने खारिज कर दिया है। अब शबनम को फांसी पर लटकाया जाना तय माना जा रहा है। जानकारों के अनुसार इससे पहले आजाद भारत में किसी भी महिला को फांसी पर नहीं लटकाया गया है।

यह था मामला

14 अप्रेल 2008 की रात को उत्तर प्रदेश के अमरोहा जनपद के गांव बावनखेड़ी में एक ऐसा सनसनीखेज मामला हुआ था, जो कि आज भी भुलाए नहीं भूलता है। इस वारदात को अंजाम दिया था एक युवती ने। उसने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने ही परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी थी। जब इस वारदात का खुलासा हुआ, तो लोगों को विश्वास तक नहीं हुआ था। कोई नहीं सोच सकता था कि कैसे एक लड़की इतनी निर्दयी हो सकती है। दरअसल हुआ यह था कि शबनम ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर खुद के परिवार के सात लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। उसके परिवार में यदि कोई बचा था, तो वह थी खुद 25 साल की शबनम। उसने अपने मां-बाप, दो भाई, भाभी, मौसी की बेटी और भतीजे का कत्ल कर दिया था।

मामले के अनुसार, शबनम और सलीम एक-दूसरे से प्रेम करते थे। यह रिश्ता शबनम के परिजनों को मंजूर नहीं था। इसी के चलते शबनम ने परिजनों की हत्या की साजिश रची। इसके तहत शबनम ने परिजनों के खाने में कुछ जहरीला पदार्थ मिलाया और बाद में इन पर एक के बाद एक कुल्हाड़ी से वार कर कत्ल कर दिया। मामले का खुलासा होने पर पुलिस ने दोनों को पकड़ा। दोनों ही आरोपियों ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया था। 7 लोगों की हत्या के मामले में शबनम ने राष्ट्रपति के यहां दया याचिका दाखिल की थी, जिसे खारिज कर दिया गया है।

जेल प्रशासन ने शुरू की तैयारी

उल्लेखनीय है कि फिलहाल शबनम मथुरा जेल में बंद है। राष्ट्रपति द्वारा शबनम की दया याचिका खारिज होने के बाद जेल प्रशासन ने फांसी की तैयारी शुरू कर दी है। मेरठ निवासी पवन जल्लाद ही शबनम को फांसी देंगे। इसके लिए पवन जल्लाद दो बार मथुरा जेल का निरीक्षण कर चुके हैं। हालांकि अभी फांसी की तारीख तय नहीं की गई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द तारीख की भी घोषणा कर दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.