March 9, 2021

News Chakra India

Never Compromise

तेज रफ्तार ऑडी से रईस महिला ने जिस युवक की जान ली, वह था अपने परिवार की सबसे बड़ी उम्मीद

1 min read
जयपुर/पाली। एक और जिंदा माडाराम, दूसरी ओर जयपुर में एक मकान की छत पर पड़ा हुआ उसका शव।

एनसीआई@जयपुर/पाली
जयपुर शहर में अजमेर रोड स्थित एलिवेटेड रोड पर शुक्रवार सुबह तेज रफ्तार ऑडी कार ने पाली के बाजवा गांव निवासी माडाराम रैबारी नामक युवक को टक्कर मार दी। तेज रफ्तार कार की टक्कर में युवक करीब 30 फीट तक उछलकर एक मकान की छत पर जा गिरा। उसका एक पैर अलग हो गया व सिर फट गया। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। माडाराम पुलिस कांस्टेबल बनने का सपना लेकर करीब 350 किलोमीटर दूर से जयपुर परीक्षा देने आया था। इस हादसे से न सिर्फ माडाराम की ज़िन्दगी छीन ली, बल्कि उसके और परिवार के सपनों को भी कुचल दिया। एलिवेटेड रोड पर पैदल चलकर परीक्षा केन्द्र की ओर जा रहे माडाराम रैबारी की सांसों पर कार ने चंद सेकंड में ही ब्रेक लगा दिया।

जयपुर। हादसे के बाद मौके पर मौजूद कार सवार दोनों युवतियां। जिस युवती का चेहरा दिख रहा है, वही कार चला रही थी। इसका नाम नेहा सोनी है।

हादसे में मारे गए माडाराम के बड़े भाई प्रकाश ने कहा, ‘परिवार में 4 भाई और 3 बहनें हैं। माड़ाराम के जाने के बाद अब 3 भाई और 3 बहन बच गए। हम 3 भाई प्राइवेट जॉब कर परिवार का गुजारा करते हैं। लेकिन सबसे छोटे भाई माडाराम का सपना था सरकारी नौकरी पाने का। परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं थी। लेकिन, पढ़ाई के लिए माडाराम पाली का बाजवा गांव छोड़कर जोधपुर शहर आ गया।
मां ने गहने गिरवी रखे, खेत बेचा
माडाराम सरकारी नौकरी का सपना लेकर गांव से 100 किलोमीटर दूर जोधपुर आ गया। यहां अपनी विवाहिता बहन के पास रहने लगा। पिछले चार-पांच साल से वहीं रहकर वह प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था। भाई ने यह भी बताया कि माडाराम की कोचिंग फीस भरने के लिए पैसे नहीं थे। ऐसे में मां ने अपने गहने गिरवी रखकर पैसा लिया। फिर भी खर्च नहीं निकल सका तो एक खेत भी बेचना पड़ा।
छोटे भाई माडाराम की मौत का समाचार सुनकर पाली से जयपुर पहुंचा बड़ा भाई प्रकाश बिलख पड़ा। उसे विधायक खुशवीर सिंह ने धैर्य बंधाया। प्रकाश ने बताया कि पूरे परिवार का सिर्फ एक ही सपना था कि माडाराम की सरकारी नौकरी पाने की इच्छा पूरी हो जाए। मायाराम की सेना में या पुलिस में भर्ती होने की इच्छा थी। उसे वर्दी से बहुत लगाव था।

जयपुर। बिलखते हुए माडाराम के बड़े भाई प्रकाश को सम्भालते लोग।

माडाराम गुरुवार रात को जोधपुर से ट्रेन में जयपुर के लिए रवाना हुआ था। शुक्रवार सुबह जयपुर रेलवे स्टेशन पहुंचा। उसे दो घंटे पहले परीक्षा केन्द्र पर पहुंचना था। जयपुर से अनजान माडाराम अकेला ही लोगों से पता पूछते हुए सोडाला की तरफ जाने के लिए पैदल एलीवेटेड रोड पर चढ़ गया। वह तेज घुमाव वाले कट से आगे निकला। तभी पीछे से आ रही तेज रफ्तार ऑडी कार ने उसे टक्कर मार दी।
उल्लेखनीय है कि माडाराम की जान लेने वाली ऑडी कार में दो महिलाएं सवार थीं। उसे चलाने वाली महिला का नाम नेहा सोनी है, उसके साथ प्रज्ञा अग्रवाल नाम की एक अन्य युवती भी सवार थी। नेहा सोनी शहर के नामी सोनी अस्पताल के मालिक परिवार की बहू बताई गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.