October 22, 2021

News Chakra India

Never Compromise

ऑनलाइन ठगी की बड़ी वारदात: 12.50 लाख रुपए के इनाम के लालच में गंवा दिए 1.20 करोड़

1 min read

एनसीआई@जयपुर
राजधानी के सायबर थाने में ऑनलाइन ठगी का एक चौंकाने वाला मामला दर्ज हुआ है। यह मामला है मानसरोवर निवासी एक 74 वर्षीय राजेन्द्र नाथ से 1 करोड़ 20 लाख रुपए की ठगी का। यह ठगी 12 लाख 50 हजार रुपए के इनाम की राशि देने का लालच देकर की गई। इस इनाम की राशि के लालच में ठगों के झांसे में फंसकर इन्होंने धीरे-धीरे 1.20 करोड़ रुपए गंवा दिए। मगर, इसके बदले में उन्हें एक रुपया भी नहीं मिला।
बड़ी बात यह है कि ठगों को इतनी बड़ी रकम देने के लिए बुजुर्ग राजेन्द्र नाथ अपनी तमाम जमा पूंजी (बैंक रकम, एफडी) के अलावा शेयर्स, बॉण्ड और यहां तक कि घर का सोना तक बेच डाला। पुलिस ने मामला दर्ज करके अब जांच शुरू कर दी है।
पुलिस के मुताबिक, राजेन्द्र नाथ ने अपनी शिकायत में कहा है कि 10 फरवरी को उन्होंने स्नेपडील कम्पनी से ऑनलाइन वॉशिंग पाउडर मंगवाया था। इसकी 13 फरवरी को डिलीवरी हो गई। पाउडर मिलने के कुछ दिन बाद 26 फरवरी को राजेन्द्र नाथ के पास एक कॉल आया कि आपका स्नेपडील कम्पनी से 12.50 लाख रुपए का इनाम निकला है। इनाम की राशि के लिए आपको टेक्स व अन्य चार्ज के पैसे पेटीएम खाते में 26,600 रुपए जमा करवाने होंगे। इनाम के लालच में आकर बुजुर्ग ने 28 फरवरी को बताई रकम जमा करवा दी। इसके बाद ठगों का पैसे मांगने का सिलसिला आगे बढ़ता ही गया। बाद में अलग-अलग शुल्क बताकर पेटीएम खातों में 4.17 लाख रुपए और जमा करवा लिए। इतना ही नहीं वाट्सएप पर चेट करके अपने बैंक खाते की डिटेल दी और उसमें केश डिपोजिट मशीन के जरिए 6.04 लाख रुपए अलग-अलग दिनों में और जमा करवा लिए।
आरटीजीएस, एनइएफटी के जरिए जमा करवाए 97.64 लाख रुपए
इसके बाद भी ठगों ने बुर्जुग को झांसा देना बंद नहीं किया और जून में नया वित्तवर्ष शुरू होने की बात कहते हुए अलग से कम्पनी में बेनिफिशरी खाता खुलवाने की बात कही, ताकि पहले दिए हुए पैसे नए एकाउंट में आ सकें और आगे की प्रोसेस की जा सके। इस खाते को खुलवाने और इनाम की राशि सहित तमाम जमा करवाई राशि को वापस दिलाने की बात कहकर राजेन्द्र नाथ से जून से लेकर अक्टूबर तक आरटीजीएस, एनइएफटी के जरिए 97.64 लाख रुपए से ज्यादा रकम ले ली। ठगों ने यह रकम आईडीबीआई, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा सहित अन्य बैंक खातों में ट्रांसफर करवाई। इसके अलावा फोन-पे के जरिए भी 7.46 लाख रुपए जमा करवा लिए। मगर इतनी बड़ी रकम के बदले उन्हें कुछ भी नहीं मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.