September 28, 2021

News Chakra India

Never Compromise

भाजपा की बस घेर कांग्रेसियों ने लाठीचार्ज से सिर फुड़वाया, मगर दोनों नगर निगम में मेयर बनवा दिए, मीडियाकर्मी भी घायल

1 min read
कोटा। भाजपा की बस घेरने वाले कांग्रेसियों पर पुलिस का लाठीचार्ज। (वीडियो देखने के लिए कृपया इसके बीच के निशान पर हलका सा क्लिक करें)
कोटा। नवनिर्वाचित मेयर मंजू मेहरा व राजीव अग्रवाल।

एनसीआई@कोटा
भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों की ओर से की गई भारी मशक्कत के बीच आखिरकार कोटा के दोनों नगर निगमों में कांग्रेस अपना मेयर बनाने में सफल हो गई। यह अलग बात है कि कोटा उत्तर में तो पर्याप्त बहुमत से काफी आगे होने से कांग्रेस का मेयर बनना तय था, पेंच तो कोटा दक्षिण में फंसा हुआ था। कोटा दक्षिण में भाजपा-कांग्रेस दोनों को ही 36-36 सीटें मिलीं थीं। बाकी 8 सीटों पर निर्दलियों ने कब्जा जमाया था। यही कारण रहा कि भाजपा के गुट में शामिल माने गए चार में ये एक निर्दलीय को भी अपने कब्जे में लेने के लिए कांग्रेसी कांर्यकर्ताओं ने जो हंगामा किया, उसके चलते पुलिस को लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ना पड़ा। इसमें एक मीडियाकर्मी सहित कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ता घायल हो गए। दोपहर दो बजे तक चले मतदान के बाद आए परिणाम में कोटा उत्तर में मंजू मेहरा, वहीं दक्षिण नगर निगम में क्राॅस वोटिंग के बाद राजीव अग्रवाल मेयर निर्वाचित हुए।
यह रहा जीत का अंतर
कोटा उत्तर से कांग्रेस की मंजू मेहरा को 50, वहीं भाजपा की संतोष बैरवा को 19 वोट मिले। यहां एक मत खारिज हो गया। इस प्रकार कांग्रेस की मंजू मेहरा 31 वोटों के अंतर से मेयर चुन ली गईं। जबकि कोटा दक्षिण नगर निगम के लिए कांग्रेस के राजीव अग्रवाल को 41, जबकि भाजपा के विवेक राजवंशी को 39 वोट मिले। दोनों पक्षों के साथ 4-4 निर्दलीय थे, मगर भाजपा के खेमे वाले एक निर्दलीय ने क्राॅस वोटिंग की। यहां भाजपा के राजवंशी 2 वोट से मात खा गए।
भाजपा की बस घेरी तो कांग्रसियों पर लाठीचार्ज
कोटा दक्षिण नगर निगम के मेयर के लिए मतदान करने को राजीव गांधी नगर निगम भवन में सुबह 11 बजे मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। इसके बाद भाजपाई व कुछ निर्दलीय पार्षदों को लेकर एक बस वहां पहुंची। इसे देखते ही कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने हंगामा करना शुरू कर दिया। साथ ही भाजपा की बस की जबरदस्त घेराबंदी कर दी। कांग्रेसियों का कहना था कि भाजपा ने अपनी बाड़ेबंदी में जिस निर्दलीय पार्षद लेखराज योगी को रख रखा है, उसे उसके परिवार के सदस्यों से मिलने दिया जाए। इनका आरोप था कि भाजपा ने उन्हें जबरन बंधक बना रखा है। गौरतलब है कि लेखराज योगी के पिता ने तीन दिन पहले पुलिस को लिखित शिकायत दी थी कि, उनके पुत्र को भाजपा नेताओं ने बंधक बनाकर बाड़ाबंदी में रखा हुआ है। वह अपने पुत्र से मिलने के लिए उज्जैन (मध्य प्रदेश) भी गए थे, मगर वहां की पुलिस ने उन्हें लेखराज से मिलवाने की जगह उलटे हिरासत में ले लिया था। इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उज्जैन पहुंचे। उनके कड़े विरोध के बाद पार्षद लेखराज के पिता को पुलिस ने हिरासत से छोड़ा, मगर उन्हें अपने पुत्र से नहीं मिलने दिया।

कोटा। घायल कार्यकर्ता का हालचाल पूछते यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल।

ऐसे में जब भाजपा के पार्षदों की बस नगर निगम भवन पहुंची तो पार्षद लेखराज के परिजन वहां पहुंच गए और उनसे मिलने की मांग करने लगे। वहीं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बस को घेर भारी हंगामा करना शुरू कर दिया। इस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को खदेड़ने के लिए पुलिस को उन पर लाठीचार्ज करना पड़ा। इससे एक चैनल के पत्रकार के अलावा कुछ कांग्रेसी भी घायल हो गए। कार्यकर्ताओं के सिर पर लाठियां लगने से खून निकल आया। इससे कांग्रेसी और भड़क गए। इस पर उन्हें नियंत्रित करने के लिए घुड़सवार पुलिस ने कार्रवाई की। इस बीच मतदान स्थल के आसपास की कई गुमटियों को बंद करवा दिया, ताकि वहां भीड़ न हो सके। पुलिस अधीक्षक (शहर) सहित अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी मौके पर रहे। राजीव गांधी नगर निगम भवन के आसपास के इलाके को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया।
ये कांग्रेसी हुए घायल
लाठीचार्ज से शाहिद मुल्तानी, आबिद कुरैशी, जयंत सहित 9 कांग्रेसी पार्षद घायल बताए गए। वहीं कवरेज कर रहे न्यूज 24 चैनल के पत्रकार कपिल शर्मा का भी सिर फूट गया। एमबीएस अस्पताल में भर्ती हुए घायलों का हालचाल जानने के लिए यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल पहुंचे। इस घटनाक्रम के बीच नगर निगम पहुंचे डीआईजी रविदत्त गौड़ ने मीडिया से बातचीत में घटना की जांच करवाने की बात कही।
बस में पहुंचे कांग्रेसी पार्षदों की जिद के कारण पुलिस से तकरार
कोटा उत्तर नगर निगम में कांग्रेसी पार्षदों को बस में मतदान करने लाया गया। यहां पहले कांग्रेस के नेता बस को मतदान स्थल तक ले जाने पर अड़ गए। इस पर उनकी पुलिस से गर्मागरमी हो गई, मगर पुलिस अधिकारियों ने बस को अंदर नहीं जाने दिया। इसके बाद कांग्रेस के पार्षदों को मतदान स्थल तक पुलिस के पहरे में ले जाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.