March 7, 2021

News Chakra India

Never Compromise

बहुचर्चित दौसा घूसकांड मामले में आईपीएस मनीष अग्रवाल गिरफ्तार, विवादों की लम्बी फेहरिस्त

1 min read

एनसीआई@दौसा/जयपुर
चर्चित दौसा घूसकांड के मामले में आखिरकार मंगलवार को एसीबी ने आईपीएस मनीष अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया। आईपीएस मनीष अग्रवाल पर दलाल के माध्यम से 38 लाख रुपए की रिश्वत की डिमांड करने का आरोप था। उल्लेखनीय है कि 13 जनवरी को एसीबी ने दौसा में छापामार कार्रवाई की थी। इसमें एसडीएम पुष्कर मित्तल व पिंकी मीणा और आईपीएस मनीष अग्रवाल के दलाल नीरज मीणा को गिरफ्तार किया था।
ऐसे पकड़ा गया था रिश्वत का खेल
गिरफ्तारी के बाद वॉट्सएप कॉलिंग और वॉट्सएप चेटिंग के माध्यम से दलाल और दौसा के तत्कालीन एसपी मनीष अग्रवाल के बीच रिश्वत के खेल की परतें खुली थीं। इन्हीं रिश्वत की परतों के आधार पर 21 दिन की जांच पड़ताल और पूछताछ के बाद आज आईपीएस मनीष अग्रवाल को गिरफ्तार किया गया। अग्रवाल पर रिश्वत के अनेक आरोप लगे थे, हालांकि यह जो कार्रवाई दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस वे निर्माण कम्पनी के प्रतिनिधियों से 38 लाख रुपए की रिश्वत की डिमांड के आरोप में हुई है। मनीष अग्रवाल दौसा में करीब छह माह एस पी रहे थे। यहां उनका कार्यकाल काफी विवादों में रहा था।
यह है मनीष अग्रवाल से जुड़े विवादों की फेहरिस्त
पहला विवाद तबादला सूची को लेकर था। जब दौसा जिले में स्थानीय चुनाव थे और आचार संहिता के बावजूद भी बिना आईजी की अनुमति से तबादला सूची जारी कर दी थी। वहीं एक ही एसएचओ को बार-बार बदला जा रहा था। इस मामले में भी तत्कालीन डीजीपी के हस्तक्षेप के बाद तबादला सूची निरस्त हुई थी। इसके अलावा सिकंदरा थाना क्षेत्र के दुष्कर्म के एक मामले में भी आईपीएस मनीष अग्रवाल पर 25 लाख रुपए की रिश्वत मांगने का आरोप लगा था। इसकी जांच पुलिस की सतर्कता कर रही है। इधर यह भी बताया जा रहा है कि नांगल राजावतान में जमीन का अवैध रूप से कब्जा करवाने की एसपी मनीष अग्रवाल ने कोशिश की थी। इसकी सूचना जब तत्कालीन आईजी को लगी तो उन्होंने मौके पर एक टीम को भेजा और उसकी जांच रिपोर्ट के आधार पर नांगल राजावतान के तत्कालीन एसएचओ सहित तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया था। साथ ही एसपी के खिलाफ जांच शुरू कर दी थी। इस तरह के अनेक मामले मनीष अग्रवाल के खिलाफ हैं।
अग्रवाल की गिरफ्तारी के लिए हुए प्रदर्शन
इधर 13 जनवरी को एसपी मनीष अग्रवाल के दलाल नीरज मीणा को गिरफ्तार किया गया तो उनकी गिरफ्तारी के लिए भी दौसा में प्रदर्शन होने लगे। सांसद किरोडी लाल मीणा ने भी दौसा कलक्ट्रेट के बाहर 4 दिन तक धरना-प्रदर्शन करके आईपीएस अग्रवाल को गिरफ्तार करने की मांग की। एसीबी से यह मांग करते हुए कहा कि वह राजनीतिक दबाव में आए बिना रिश्वतखोर आईपीएस को गिरफ्तार करे। आईपीएस मनीष अग्रवाल दौसा के अलावा पुराने पदस्थापित जिलों में भी विवादों में रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.